dand ke alawa ,samaj aur sarkar dono ko yah sochana aur kuchh karana chahiye ki vyakti ke charitra me girawat aur jeewan mulyon ka patan aakhir kyon hua hai?

छत्तीसगढ़ी गीत संगी ... Chhattisgarhi Geet Sangi

आदमी के अंदर का जानवर जब-जब जगता है, तब-तब ऐसी घटना होती है जिसे एक सभ्य समाज के लिए कलंक कहा जा सकता है। विगत दिनों हुए बलात्कार की घटनाएं निश्चित ही हमें शर्मसार करती है। समाज में ऐसे जानवरों के लिए कोई स्थान नहीं होना चाहिए। जानवर एकबार जब आदमी को मारकर खा जाता है तो वो आसान शिकार के रूप में आदमीयों पर बारबार हमले करता है, उन्हें खाने लगता है और आदमखोर हो जाता है। आदमीयों के सुरक्षा हेतु आदमखोर को अंत में गोली मारनी ही पड़ती है। आज समय आ गया है ऐसी घटनाओं की पुनरावृत्ति को रोकने के लिए ऐसे आदमखोर आदमियों से समाज की सुरक्षा हेतु कानून में आवश्यक संशोधन कर उन्हें फांसी पर लटका दिया जाए।

Death for Rape

आज जो गीत आपको सुना रहें है वो बलात्कार पीड़ित लड़की की व्यथा-कथा को बयां करती है, जिसे गाया है श्रीमति कुलवंतीन मिर्झा ने, श्रीमति कुलवंतीन मिर्झा…

View original post 562 और  शब्द

Advertisements

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: